• (+91) 708 100 5404
  • info@rdmahilamahavidyalaya.org










आवश्यक निर्देश

महाविद्यालय में प्रवेश लेने वालें प्रशिक्षणार्थी इस विवरणिका एवं प्रवेश निर्देशिका को ध्यानपूर्वक पढ़ सभी नियमों मे अवगत हो जाये तथा प्रवेश के पश्चात् प्रशिक्षणार्थी को सम्बन्धित नियमों का अनुपात अनिवार्य होगा।
इस विवरणिका एवं प्रवेश निर्देशिका में वर्णित नियमों के परिवर्तन का समस्त अधिकार महाविद्यालय प्रशासन के पास सुरक्षित है।


 


संदेश
उत्तर प्रदेश एंव बिहार की सीमा पटे अनि पिछड़े विकास खण्ड-भटनी,जिला देवरिया गांव सल्तनहपुर में पैदा हुए, पूजनीय स्व0 राम गुलाम राय जी के जीवन मूल्य, सामाजिक सरोकारों
एवं गाँधीवादी आदर्शो को चरितार्थ करने के लिए स्थापित श्राम गुलाम राय राजा देवी बेरिटेबल दृस्ट श् , गोरखपुर द्वारा परम पूजनीय गुरू गोरक्षनाथ की तपोस्थली गोरखपुर महानगर के पूर्वी छोर पर श्री सत्य नारायण भगवान के आशीर्वाद से श् राम गुलाम राय शिक्षण प्रशिक्षण महाविद्यालय श्, गोरखपुर की स्थापना 24 नवम्बर 2010 को हुई।
बाजारीकरण के दौर में जहाँ सर्वत्र मोल-भाव की संस्कृति प्रभावी है तो शिक्षा जगत भी उससे अछूना नहीं है। परिणामस्वरूप आज शिक्षिण वर्ग पथ-भ्रमित हो चला है। मूल्यपरक, गुणात्मक, सर्वग्राही एवं सर्वस्पर्शी शिक्षा का प्रायः लोप होता जा रहा है जो कभी मानव में
अन्तः सम्बन्ध विकसित करने का श्रेष्ठ माध्यम था। वर्तमान परिस्थिती में सामाजिक मूल्य, शैक्षिक मूल्य, शिक्षक-छात्र सम्बन्ध प्रश्न चिन्ह के दायरे में है। गिरते सामाजिक स्तर, धनलिप्स की भावना, सम्बन्धों मे व्याप्त दूरूहता एवं जीवन-दर्शन का अभाव आज सर्वाधिक समस्या है।
निराशा भरे वातावरण में महाविद्यालय मूल्यों के क्षरण को रोकने की प्रबल आंकाक्षा लिचे शिक्षा जगत में नूतन प्रयोगों के साथ सामाजिक एवं पारम्परिक मूल्यों को सहेज कर नवीन शैक्षिक पद्धति को विकसित करने के लिए कटिबद्ध है ताकि शैक्षिक अवमूल्यम का दौर समाप्त एवं शिक्षा मानवीय चेतना के विकास के साथ-साथ सर्वस्पर्शी एवं सर्वग्राही हो सकें तथा सामाजिक एवं शैक्षिक मूल्यों की स्थापना की जा सकें।
सधन्यवाद।


स्टेंण्डः महाविद्यालय में बाहन रखने के लिए स्टैंण्ड को व्यवस्थ की गयी है। प्रशिक्षणार्थियों से अपेक्षा की जानी है कि स्टैण्ड हेतु निर्धारित शुल्क जमा कर अपने वाहन स्टैण्ड में ही रखेें।
परिचय पत्रः महाविद्यालय में प्रवेश के उपरान्त प्रशिक्षणार्थी वधाशीघ्र नियता मण्डल से सम्पर्क कर अपने परिचय पत्र प्राप्ति सम्बन्धी समस्त औपचारिकताए पूर्ण कर ले। बिना परिचय पत्र महाविद्यालय में प्रवेश वर्जित है


प्रवेश नियमावलीः
1
. बी0टी0सी0 द्वितीय सेमेस्टर अभ्यर्थी ही.टी.सी. द्वितीय वर्ष तृतीय सेमेस्टर में प्रवेश के अर्ह होंगे।
2. अभ्यथी के पहचान पत्र एवं निवास प्रमाण पत्र की प्रमाणित छायाप्रति।
3. पासपोर्ट साईज के 4 नवीनतम रंगीन फोटो।
4. समस्त अंक पत्रों एवं प्रमाण पत्रों की मूल प्रति महाविद्यालय कार्यालय में प्रशिक्षण अवधि के दौरान जमा रहेंगे। इन में प्रशिक्षणर्थियों को आवश्यकता पड़ने पर शपथ पत्र प्रस्तुत करने पर उन्हे अंक पत्र एवं पत्रों की मूूल प्रति की जा सकती है तथा आवश्यकता समाप्त होने पर निर्धारित समयावधि में उन्हें महाविद्यालय कार्यालय में पुनः जमा होगा।
5.प्रशिक्षणार्थियों का प्रवेश हेतु चयन पूरी से उत्तर प्रदेश शासन के नियमों के अनुसार होना है और काउन्सि पश्चात् महाविद्यालय में आवंटित अभ्यर्थी ही प्रवेश के लिए हकदार होंगे।